मंत्रियों का समूह तम्बाकू उत्पादनों पर फोटो-वाली चेतावनी को कमजोर न करे

मंत्रियों का समूह तम्बाकू उत्पादनों पर फोटो-वाली चेतावनी को कमजोर करे

कल २३ जनवरी २००९ को भारत सरकार द्वारा नियुक्त मंत्रियों का समूह एक विशेष बैठक बुला रहा है. विश्वसनीय सूत्रों द्वारा ज्ञात हुआ है कि यह बैठक प्रस्तावित तम्बाकू उत्पादनों पर फोटो-वाली चेतावनी से चिंतित बीड़ी उद्योग और सम्बंधित संस्थाओं को शांत करने के लिए आयोजित की जा रही है.

जब जुलाई २००६ में, तम्बाकू उत्पादनों पर फोटो वाली चेतावनी लगाने का प्रस्ताव आया, तब से यह प्रस्ताव कम-से-कम सात बार स्थगित किया जा चुका है। हाल ही में ३० नवम्बर २००८ से तम्बाकू उत्पादनों पर फोटो वाली चेतावनी लगने को थी, परन्तु मंत्रियों के समूह ने इसको ३१ मई २००९ तक एक बार फिर स्थगित कर दिया था. जब-जब मंत्रियों का समूह ने बैठक की है, या तो इस अधिनियम को स्थगित कर दिया है या जन-स्वास्थ्य की दृष्टि से कमजोर बना दिया है, कहना है बाबी रमाकांत का जो विश्व स्वास्थ्य संगठन के तम्बाकू नियंत्रण पुरुस्कार प्राप्त कार्यकर्ता हैं.

तम्बाकू सेवन को कम करने के लिए, तम्बाकू उत्पादनों पर फोटो-वाली चेतावनी लगाना एक प्रभावकारी तरीका है. विश्व तम्बाकू संधि या फ्रेम-वर्क कन्वेंशन ओन तोबक्को कंट्रोल (FCTC), जिस पर भारत ने हस्ताक्षर किए हैं, और सिगरेट एवं अन्य तम्बाकू उत्पाद अधिनियम २००३, के तहत भी तम्बाकू उत्पादनों पर फोटो-वाली चेतावनी लगाना अनिवार्य होना चाहिए।

"भारत में हर वर्ष १० लाख से अधिक लोग तम्बाकू-जनित कारणों से मृत्यु को प्राप्त होते हैं. १० करोड़ बीड़ी पीने वाले लोगों में से ६ लाख हर साल तम्बाकू-जनित कारणों से मर जाते हैं" कहना है प्रोफ़ेसर डॉ रमा कान्त का, जो छत्रपति शाहूजी महाराज चिकित्सकीय विश्वविद्यालय में सर्जरी विभाग के प्रमुख हैं और विश्व स्वास्थ्य संगठन के महा-निदेशक द्वारा पुरुस्कृत भी.

प्रोफ़0 डॉ रमा कान्त ने कहा कि "अधिकाँश बीड़ी पीने वाले लोग शिक्षित नहीं होते हैं, इसीलिए जन स्वास्थ्य की दृष्टि से प्रभावकारी फोटो-वाली चेतावनी लगाना हितकारी होगा. लोगों को तम्बाकू के जान-लेवा स्वरुप के बारे में जागरूक करने के लिए तम्बाकू उत्पादनों पर फोटो-वाली चेतावनी लगाने को अब और स्थगित नहीं करना चाहिए".

तम्बाकू व्यापर से जो राजस्व प्राप्त होता है, उसकी तुलना में तम्बाकू-जनित रोगों के उपचार में १६ प्रतिशत अधिक खर्चा आता है, यह हाल ही में प्रकाशित शोध से प्रमाणित हुआ है.

हमारी मंत्रियों के समूह से यह आग्रह है कि जन-स्वास्थ्य को प्राथमिकता दें और तम्बाकू उत्पादनों पर फोटो वाली चेतावनी को न तो अब और कमजोर करें और न ही स्थगित.

बाबी रमाकांत
९८३९०७३३५५

No comments: