एड्स के बारे में प्रचलित धारणाओं को दूर करने के प्रयास हेतु ‘‘शिफा’’ नाटक मंचन का आयोजन

इलाहाबाद, 28 अगस्त। ‘‘एड्स या एचआईवी प्रभावित व्यक्ति अपनी जिन्दगी की बाधाओं को कैसे पार कर सकता है और इस बीमारी से उनको किस-किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है तथा इससे निजात पाने के लिए क्या-क्या कदम उठाना चाहिए।’’

नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा, नई दिल्ली की एसोसिएट प्रोफेसर त्रिपुरारी शर्मा ने आज यहां भारतीय विद्या भवन, इलाहाबाद में मीडिया नेस्ट के कार्यक्रम ‘मीडिया फॉर चिल्ड्रेन’ में कहा कि इस भयंकर बीमारी, एड्स के बारे में प्रचलित धारणाओं को दूर करने के प्रयास के अन्तर्गत ‘रेड रिबन एक्सप्रेस’ का अभियान जारी है। इसी कड़ी में यूनीसेफ, नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा और भारतीय नाट्य अकादमी के सहयोग से तैयार ‘‘शिफा’’ नाटक मंचन का श्रीगणेश इलाहाबाद स्थित कला संगम सभागार में हुआ। अन्य पांच जिलों लखनऊ, बलिया, बरेली, वाराणसी व सहारनपुर में भी इस नाटक का मंचन किया जायेगा। जिसको नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा के कलाकार प्रस्तुत करेंगे। जनमानस को उद्धृत करने वाला यह नाटक एड्स प्रभावी व्यक्तियों के जीवन की सच्ची कहानी पर आधारित है और इसे ट्रेन यात्रा के दौरान विभिन्न शहरों में मंचित किया जायेगा। रेड रिबन एक्सप्रेस का अभियान विभिन्न शहरों में पहुंचकर एड्स रोगियों के बारे में जनसामान्य की अवधारणाओं को निर्मूल करना है ताकि प्रभावित व्यक्तियों को भी सम्मानित नागरिक की दृष्टि से देखा जाये और उपचार में किसी प्रकार की उपेक्षा न हो सके।

कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ पत्रकार एवं भारतीय विद्या भवन केन्द्र के निदेशक डॉ. रामनरेश त्रिपाठी ने की और विशिष्ट वक्ता यूनीसेफ के संचार विशेषज्ञ आगस्टीन वेलियथ थे। दोनों वक्ताओं ने एड्स जैसे भयावह रोग के प्रति जागरुकता वृद्धि में मीडिया नेस्ट के प्रयासों की सराहना की तथा ‘शिफा’ नाटक की सफलता की कामना की।

मीडिया नेस्ट की महामंत्री कुलसुम मुस्तफा ने ‘मीडिया फॉर चिल्ड्रेन’ कार्यक्रम का संचालन करते हुए मीडिया नेस्ट के महत्वपूर्ण कार्यक्रम स्वास्थ्य समूह बीमा, स्वास्थ्य शिविर एवं कम्प्यूटर प्रशिक्षण शिविर आयोजित किये जाने की जानकारी दी।

कार्यक्रम के प्रारम्भ में इण्डियन एक्सप्रेस के इलाहाबाद स्थित संवाददाता विजय प्रताप सिंह की बम विस्फोट में हुई मृत्यु पर शोक व्यक्त करते हुए दो मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि अर्पित की गयी।

यह ट्रेन उत्तर प्रदेश के लखनऊ समेत 16 रेलवे स्टेशनों पर 29 अगस्त व 10 अक्टूबर के दौरान रुकेगी। अपनी 25 हजार किमी की यात्रा में यह ट्रेन उत्तर प्रदेश के चोपन (सोनभद्र) में 17 जुलाई को आयी थी इसके पश्चात् झारखण्ड चली गयी थी। अब कल 29 अगस्त को इलाहाबाद पहुंचेगी और पुनः उत्तराखण्ड जायेगी। आज इलाहाबाद में नाटक का पहला मंचन हुआ।

इस अवसर पर एड्स प्रभावित बच्चों के लिए काम कर रही संस्था ‘उम्मीद’ ने एड्स से सम्बन्धित पोस्टर-प्रदर्शनी का प्रदर्शन भी किया।

कुलसुम मुस्तफा
(लेखिका एक वरिष्ठ संवाददाता और मीडिया नेस्ट की महामंत्री हैं)

1 comment:

Anonymous said...

Maybe I`ll be Captain Obvious, but... it's only few days to New Year last, so let's be happy!
Hoho3ho!)