[विडियो] जितनी कोविड स्वास्थ्य सेवा अति-आवश्यक है उतनी ही ज़रूरी है ग़ैर-कोविड स्वास्थ्य सेवा

बुनियादी भूलः क्या हम कोरोना वाइरस संक्रमण को फैलने से रोक पा रहे हैं?

[English] क्या आप जानते हैं कि जब से कोविड महामारी शुरू हुई है तब से एक सप्ताह में सबसे अधिक नए संक्रमण, 2022 नव वर्ष के पहले हफ़्ते में रिपोर्ट हुए? यह बहुत चिंता की बात है क्योंकि महामारी को 2 साल से ऊपर हो गए हैं, और सरकार एवं हम सब को भलीभाँति ज्ञात है कि कोरोना से संक्रमित होने से कैसे बचा जाए। कोरोना वाइरस का पक्का इलाज अभी न हो पर संक्रमण के बचाव के तरीक़े तो प्रमाणित हैं।

बिना एकीकृत स्वास्थ्य (वन हेल्थ) के महामारियाँ चुनौती देती रहेंगी

[English] कोविड महामारी ने यह स्पष्ट कर दिया है कि अर्थ-व्यवस्था और विकास के सभी संकेतकों के लिए सबकी-स्वास्थ्य-सुरक्षा कितनी ज़रूरी है। वैज्ञानिक रूप से तो यह पहले से ही ज्ञात था कि एकीकृत स्वास्थ्य (One Health) कितना अहम है। मानव स्वास्थ्य, पशु स्वास्थ्य, कृषि और पर्यावरण में सम्बंध भी गहरा रहा है जिसका एक प्रमाण है बढ़ती हुई दवा प्रतिरोधकता। मानव स्वास्थ्य, पशु पालन, कृषि में ग़ैर-ज़िम्मेदारी और अनुचित ढंग से इस्तेमाल हो रही दवाएँ (ख़ासकर कि एंटी-बायआटिक, एंटी-वाइरल, एंटी-फ़ंगल और एंटी-पैरासिटिक दवाएँ) पर्यावरण में भी ज़हर घोल रही हैं जिसके कारणवश रोग उत्पन्न करने वाले कीटाणु रोग-प्रतिरोधक हो जाते हैं और सामान्य रोग भी लाइलाज हो सकते हैं।

बिना हेपटाइटिस नियंत्रण के कैसे मिलेगी सबको स्वास्थ्य सुरक्षा?

[English] कोविड महामारी के दौरान, यह सबको स्पष्ट जो गया है कि सतत विकास के लिए सबकी स्वास्थ्य सुरक्षा कितनी अहम है। जब हेपटाइटिस-बी से टीके के ज़रिए बचाव मुमकिन है, जाँच-इलाज मुमकिन है, हेपटाइटिस-सी का न सिर्फ़ जाँच-इलाज सम्भव है बल्कि पूर्ण उपचार भी मुमकिन है, तब कैसे 35 करोड़ लोगों से अधिक को हेपटाइटिस-बी और हेपटाइटिस-सी से जूझना पड़ रहा है और हर 20 सेकंड में 1 असामयिक मृत्यु हो रही है?