स्वास्थ्य नीति में तंबाकू उद्योग के हस्तक्षेप को रोकने के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला

प्रदेश एवं जिले तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ एवं स्वास्थ्य को वोट अभियान द्वारा जन स्वास्थ्य नीति में तंबाकू उद्योग के हस्तक्षेप के मुद्दे पर बलरामपुर अस्पताल के सभागार में 7 सितंबर को प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित की जा रही है।

इस कार्यशाला के मुख्य संचालकों में चैलेंज बिग टुबैको के निदेशक जॉन स्टीवर्ट, कॉर्पोरेट अकौंटबिलिटी इंटरनेशनल की क्लोए फ़्रांकों, हैल्थ जस्टिस फ़िलीपिन्स की आइरीन रेएस, जिला तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ के डॉ यूएन राय, प्रदेश तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ के सतीश त्रिपाठी, इंडियन चेस्ट सोसाइटी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ सूर्य कान्त, समाधान की निदेशक डॉ मधु पाठक, विश्व स्वास्थ्य संगठन अंतराष्ट्रीय पुरुस्कार प्राप्त प्रोफेसर (डॉ) रमा कान्त, और स्वास्थ्य को वोट अभियान और सीएनएस के शोभा शुक्ला, बाबी रमाकांत, और राहुल द्विवेदी।

उत्तर प्रदेश, राजस्थान और अन्य जगह पर जो गैर सरकारी और सरकारी प्रतिनिधि, तंबाकू नियंत्रण कानून लागू कर रहे हैं, वे इस कार्यशाला में भाग लेंगे। इस प्रशिक्षण को राज्य और जिले तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ के साथ नेटवर्क फॉर अकौंटबिलिटी ऑफ टुबैको ट्रांसनेशनल्स (नैट), स्वास्थ्य को वोट अभियान, सीएनएस, हैल्थ जस्टिस फ़िलीपिन्स, आशा परिवार, सीएनएस एवं जन आंदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय आयोजित कर रहे हैं।

इस प्रशिक्षण कार्यशाला में अनेक सत्र होंगे जैसे कि: विश्व तंबाकू नियंत्रण संधि (फ्रमेवोर्क कन्वेन्शन ऑन टुबैको कंट्रोल), तंबाकू उद्योग का हस्तक्षेप, भारत का सिगरेट एवं अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम (कोटपा 2003), आदि।

सिटिज़न न्यूज़  सर्विस - सीएनएस
सितम्बर २०१३

No comments: