अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर एकजुट हुए अनेक चिकित्सक-विशेषज्ञ और महिला अधिकार-समानता कार्यकर्ता

[English] 100 साल से भी अधिक समय बीत गया है जब अमरीका में सोशलिस्ट पार्टी ने पहला अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया था जिसकी मुख्य मांग थीं: महिला समानता और चुनाव में वोट डालने का अधिकार. इस साल अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का केंद्रीय विचार है #BalanceForBetter, क्योंकि सरकारों द्वारा 2030 तक सतत विकास लक्ष्य का सपना और सबके लिए एक बेहतर दुनिया का सपना तभी मुमकिन है जब हर किस्म की लिंग-जनित असमानता समाप्त हो और हर इंसान बराबरी से सम्मानजनक ढंग से जीवन यापन कर सके.

लखनऊ में चंद सुपर-स्पेशलिटी सरकारी अस्पतालों के विभिन्न चिकित्सकीय विशेषताओं से प्रमुख विशेषज्ञ एकजुट हो कर अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर लोगों से महिला-स्वास्थ्य पर सीधा संवाद करेंगे. किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के शताब्दी फेज-2 में आयोजित इस कार्यक्रम के आयोजक हैं स्तन कैंसर सर्जन और शोधकर्ता डॉ पूजा रमाकांत,और कैंसर विशेषज्ञ डॉ सुधीर सिंह. डॉ पूजा रमाकांत, किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में एंडोक्राइन सर्जरी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर हैं और इंडियन जर्नल ऑफ़ सर्जरी की एसोसिएट एडिटर भी. डॉ सुधीर सिंह, किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के रेडियोथेरेपी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर हैं.
इस विशेष कार्यक्रम का आयोजन किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के अनेक विभाग, जिनमें एंडोक्राइन सर्जरी,रेडियोथेरेपी, सर्जिकल ऑन्कोलॉजी, ट्रांसफ्यूज़न मेडिसिन, प्रमुख हैं, और डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संसथान (डॉ राम मनोहर लोहिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज) का एंडोक्राइन सर्जरी विभाग एवं अन्य चिकित्सकीय विभाग मिल कर रहे हैं. अस्पताल मेंमहिला-पुरुष रोगी, परिवारजन और अन्य नागरिकों को भी इस खुले कार्यक्रम में आमंत्रित किया गया है. सीएनएस (सिटिज़न न्यूज़ सर्विस) की संस्थापिका-अध्यक्ष और आशा परिवार से जुड़ीं महिला-अधिकार कार्यकर्ता शोभा शुक्ला भी, इस आयोजन में खुले सत्र का संचालन करेंगी. लायंस क्लब सेंचुरी लखनऊ से डॉ रमा शंखधर, विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा पुरुस्कृत वरिष्ठ सर्जन प्रोफेसर डॉ रमा कान्त, और कर्नल (डॉ) सतेन्द्र सभ्लोक भी संबोधित करेंगे.

शोभा शुक्ला जो सीएनएस की संपादक हैं और पूर्व में प्रतिष्ठित लोरेटो कान्वेंट कॉलेज की सेवानिवृत्त वरिष्ठ शिक्षिका रही हैं, ने कहा कि परिवार और समुदाय स्तर पर महिलाएं सेवा करने में अपना जीवन निवेश करती हैं परन्तु उनका अपना स्वास्थ्य अक्सर नज़रंदाज़ रहता है.

जो विशेषज्ञ इस कार्यक्रम में संबोधन करेंगे और संवाद में भाग लेंगे उनमें प्रमुख हैं: किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यलय के कुलपति प्रोफेसर (डॉ) मदन लाल ब्रह्मा भट्ट, स्तन कैंसर सर्जन और केजीएमयू के एंडोक्राइन सर्जरी के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर (डॉ) आनंद मिश्र, केजीएमयू के सर्जिकल ऑन्कोलॉजी के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर (डॉ) अरुण चतुर्वेदी, केजीएमयू के ट्रांसफ्यूज़न मेडिसिन की विभागाध्यक्ष प्रोफेसर (डॉ) तुलिका चन्द्र, केजीएमयू के एंडोक्राइन सर्जरी विभाग के डॉ कुल रंजन सिंह, डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के एंडोक्राइन सर्जरी विभाग की डॉ रोमा प्रधान, मौखिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ और केजीएमयू के ओर्थोडोंटिक्स विभाग की डॉ दीप्ति शास्त्री, केजीएमयू के न्यूरोसर्जरी के विभागाध्यक्ष और चिकित्सकीय अधीक्षक डॉ बीके ओझा, केजीएमयू के पैथोलॉजी की डॉ चंचल राणा, आदि.

सीएनएस इस कार्यक्रम का लाइव, फेसबुक पर स्ट्रीम करेगा (लाइव देखने के लिए 8 मार्च को 1:30 बजे यहाँ क्लिक करें)

सीएनएस (सिटिज़न न्यूज़ सर्विस)
5 मार्च 2019

No comments: