पुलिस की उपस्थिति में बसपा से जुड़े प्रधान के पति द्वारा लाठियाँ चलवाने व् मजदूरी न देने के मामले में अभी तक कार्यवाही नहीं

पुलिस की उपस्थिति में बसपा से जुड़े प्रधान के पति द्वारा लाठियाँ चलवाने व् मजदूरी न देने के मामले में अभी तक कार्यवाही नहीं

१४ जनवरी २००९ को हरदोई जिले के भरावन विकास खंड की ग्राम पंचायत एराकाकेमऊ में बहुजन समाज पार्टी के कार्यकर्ता व् ग्राम प्रधान के पति धनश्याम ने जो अनुसूचित जाति के मजदूरों पर लाठियाँ चलवाई उस मामले में अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है . मजदूर ग्राम प्रधान के घर अपनी बकाया मजदूरी मांगने उपस्थित हुए थे।

लाठी चलने से एक अनुसूचित जाति के मजदूर मेदयी (पुत्र नारायण) व् आशा परिवार कार्यकर्ता राम भरोसे चोटिल हुए . यह घटना थानाध्यक्ष अतरौली व् उनके पुलिसकर्मियों की उपस्थिति में हुई . इस घटना के एक माह बाद भी उपर्युक्त पंचायत के लालपुर गाँव के ४० से ऊपर मजदूरों को अभी पूरी मजदूरी नहीं मिली है जो राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार योजना का उलंघन है।


प्रधानपति ने ग्राम पंचायत खाते से अवैध रूप से पैसे भी निकाले हैं जो बात जॉब कार्ड पर चढ़े फर्जी मजदूर दिवसों और भुगतान की गई राशि से स्पष्ट होती है।


पुलिस के सामने मजदूरों पर लाठी चलाने तथा ग्राम पंचायत के खाते से पैसा निकाल लेने की जाँच व् दोषी पाए जाने पर घनश्याम के विरुद्ध कार्यवाही की मांग को लेकर करीब १२५ ग्रामीण हरदोई जिला मुख्यालय पर १६/०२/२००९ से धरने पर बैठें हैं तथा आज से दो कार्यकर्ता मोह्हमद नसीम व् रामप्रकाश अनशन भी शुरू कर चुके हैं।

यह मुहीम राजनीति में अपराध व् भ्रष्टाचार जो एक दुसरे को पुष्ट करते हैं , key ख़िलाफ़ है. राजनीति में भ्रष्टाचार व् अपराध के हावी होने का खामियाजा आम नागरिक को ही उठाना पड़ता है kyonki वह अपने मौलिक अधिकारों से वंचित हो जाता है।

एक दलित हितैषी सरकार जो भय मुक्त समाज बनाने का दावा करती है key साशन में ही खुलेआम भ्रष्ट व अपराधी तत्वों को राजनीतिक संगरक्षण प्राप्त है इससे ज्यादा खतरनाक बात लोकतंत्र के लिए नही हो सकती .

अपराध व् भ्रष्टाचार के विरुद्ध आशा परिवार व् जन आन्दोलनों के राष्ट्रीय समन्वय का संघर्ष जारी रहेगा .

मेदयी रामभरोसे संदीप पाण्डेय

No comments: