उप्र मुख्यमंत्री के साथ वार्ता विफल: समान शिक्षा प्रणाली के लिए अनिश्चितकालीन अनशन जारी

(हस्ताक्षर अभियान पर समर्थन देने के लिए यहाँ क्लिक करें) उत्तर प्रदेश में सरकारी वेतन पाने वाले और जन प्रतिनिधियों के बच्चे सरकारी स्कूल में पढ़ें - से सम्बंधित १८/८/२०१५ हाई कोर्ट आदेश को लागू करवाने के लिए, उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री और मेगसेसे पुरुस्कार से सम्मानित कार्यकर्ता डॉ संदीप पाण्डेय के दल के बीच वार्ता विफल रही. डॉ संदीप पाण्डेय जो सोमवार ६ जून २०१६ से अनशन पर हैं, वार्ता विफल होने की वजह से अपना अनशन जारी रखा है क्योंकि सरकार समान शिक्षा प्रणाली और हाई कोर्ट आदेश को लागू करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है.

(हस्ताक्षर अभियान पर समर्थन देने के लिए यहाँ क्लिक करें)

डॉ संदीप पाण्डेय के साथ अध्वक्ता मु० शोएब, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया); शरद पटेल, अध्यक्ष, आचार्य नरेन्द्र देव छात्र सभा; मुन्ना लाल, अध्यक्ष, युसूफ मेहर अली मजदूर सभा भी उप्र मुख्यमंत्री से इसी मुद्दे को ले कर मिले थे. डॉ संदीप पाण्डेय ने इसी हाई कोर्ट आदेश को लागू करने की मांग के समर्थन में लगभग ८०० लोगों के हस्ताक्षर भी मुख्यमंत्री को सौंपे.

यह चिंताजनक है कि जो हाई कोर्ट आदेश १८ अगस्त २०१५ से ६ माह के भीतर लागू होना चाहिए था, उप्र मुख्यमंत्री अब बेसिक शिक्षा विभाग को इस आदेश का अध्ययन करने के लिए कह रहे हैं.

सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) अब कोर्ट में अपील करने का विचार कर रही है जिससे कि सरकार को जिम्मेदार ठहराया जा सके और इस आदेश को बिना विलम्ब लागू किया जाए.

हालाँकि उप्र मुख्यमंत्री ने समान स्कूल प्रणाली लागू करने से असहमति जताई पर उन्होंने समान पाठ्यक्रम प्रणाली, बच्चों के लिए बेहतर पौष्टिक भोजन और सरकारी स्कूल में शिक्षा की गुणात्मकता बढ़ाने के लिए विडियो आदि के जरिये शिक्षकों में सुधार लाने के सम्बन्ध में बात रखी.

डॉ संदीप पाण्डेय का अनशन आज तीसरे दिन कायम रहा और जारी रहेगा. लखनऊ के विभिन्न स्थानों पर हस्ताक्षर अभियान और ऑनलाइन अभियान भी जारी रहेगा.

(हस्ताक्षर अभियान पर समर्थन देने के लिए यहाँ क्लिक करें)

सीएनएस (सिटीजन न्यूज़ सर्विस)
८ जून २०१६

No comments: