अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च पर विशेष

यथार्थ की त्रासदी
हमका बताओ आपन नाम बहिनी
हमार नाम का कौनो काम बहिनी

अम्मा की गोदिया मा मुनिया रहीं हम
पाछे रामेसुर की दिदिया बनीं हम
स्कूल मा हमरा कौनो नाम न लिखऊली
भौजी की रसोई मा हाथ बस बटऊली
गुड़िया खेलत जब ससुर घर गयली
तब हम बटेसर की दुलहिन कहऊली

साल पीछे बिटिया का जनम जब भयली
सास हमें तब कुलच्छिनी कहली
अबके डाक्टरनी जो हम लरिका जनिबे
तब हम मुन्ना की अम्मा कहइबे
हमरी न कौनो औकात बहिनी
हमार नाम का कौनो काम बहिनी

शोभा शुक्ला -सी. एन. एस. 

No comments: