''अयोध्या फैसला : लोकतंत्र के समक्ष चुनौतियाँ''

वाराणसी २८ नवंबर १०/अयोध्या फैसला लोकतंत्र के समक्ष चुनौतियाँ विषय पर मैत्री भवन में हुए सम्मलेन में लोकतंत्र के चारों स्तंभों के भूमिका और उनकी गैरजिम्मेदारी पर सवाल उठाए गए। जहाँ प्रथम सत्र में इतिहास के आइनें में कानून की भूमिका पर बात हुयी तो वहीं द्वितीय सत्र में लोकतंत्र के धर्मनिरपेक्षता जैसे बुनियादी मूल्य के प्रति मीडिया और राजनीतिक दलों की प्रतिबद्धता पर भी सवालिया निशान लगाए गए।

अयोध्या फैसला कानून का मजाक और सांप्रदायिक राजनीति से प्रेरित है। यह बात इलाहाबाद हाई कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता रविकिरण जैन ने कहते हुए कहा कि न्यायपालिका में बढ़ता राजनीतिक हस्तक्षेप लोकतंत्र के भविष्य के लिए खतरनाक है। वरिष्ठ पत्रकार अनिल चमड़िया ने सांप्रदायिकता को बढ़ाने में संविधानिक संस्थाओं की भूमिका का जिक्र करते हुए कहा कि अयोध्या फैसले को सिर्फ मंदिर - मस्जिद तक सीमित करके नहीं देखना चाहिए बल्कि इसके बहाने राज्य स्वयं अपने घोषित लोकतांत्रिक मान्यताओं को ध्वस्त करने का अभियान चलाएगा।

पीयूसीएल के प्रदेश अध्यक्ष चितरंजन सिंह ने कहा कि इस फैसले पर कथित धर्मनिरपेक्ष राजनीतिक दलों के रवैये के कारण मानवाधिकार संगठनों की भूमिका बढ़ गयी है। सम्मलेन की अध्यक्षता करते हुए गाँधी संस्थान के अध्यक्ष दीपक मलिक ने कहा कि इस फैसले से न्यायपालिका ने भविष्य के विध्वंसक राजनीति और सांप्रदायिक कत्लेआम के लिए रास्ते खोल दिए है।

मैग्सेसे पुरस्कार द्वारा सम्मानित सामाजिक कार्यकर्ता संदीप पाण्डेय ने कहा कि सांप्रदायिक तत्वों को पूरी व्यवस्था संरक्षण दे रही है जबकि पूरे देश में लोकतान्त्रिक आवाज उठाने वालों का दमन किया जा रहा हैलखन हाई कोर्ट के अधिवक्ता मों.शोएब ने कहा कि अगर अब आस्था के आधार पर ही फैसले होंगे तो कोई भी कही भी आस्था के आधार पर दावा कर सकता है, इससे न्यायिक अराजकता फ़ैल जाएगीसुनील सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि न्यायालय सांप्रदायिक तत्वों के आस्था को कानूनी वैधता तो दे रहा है लेकिन आदिवासियों की आस्था और मान्यताओं के साथ खिलवाड़ कर उन्हें उनके जल-जंगल-जमीन से उजाड़े जाने पर न्यायपालिका क्यों चुप रहती है।

डिबेट सोसाइटी द्वारा आयोजित सम्मलेन में मों.आरिफ, जहांगीर आलम, प्रशां शुक्ला, चित्रा सहस्त्रबुद्धे, आनंद दीपायन आदि ने भी अपने विचार रखे। सम्मेलन में शाहनवाज आलम, अंशु माला सिंह, मनीष शर्मा, राजीव यादव, राघवेन्द्र प्रताप सिंह, लक्ष्मण प्रसाद, बलबीर यादव, तारिक शफीक, आनंद, गुरविंदर सिंह, ताबीर कलाम, शशिकांत, युसूफ, ज्ञान चन्द्र पाण्डेय, विनोद यादव, मसिहुद्दीन संजरी आदि मौजूद रहे। सम्मेलन के प्रथम सत्र का संचालन एकता सिंह और द्वितीय सत्र का संचालन गुंजन सिंह ने किया और रवि शेखर ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

गुंजन सिंह और रवि शेखर

No comments: