तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम को पारित कराने में असफल है चंडीगढ़ प्रशासन

चंडीगढ़ को देश का एक मात्र धूम्रपान शहर घोषित होने को एक साल से ज्यादा हो गए हैं किन्तु हम चंडीगढ़ प्रशासन द्वारा तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम का खुलेआम उल्लंघन होते हुए देख सकतें हैं. चंडीगढ़ राज्य प्रशासन इस अधिनियम के प्रभावकारी रूप से लागू करने में असफल रहा है. कई सारे शैक्षिक संस्थानों के पास आप को तम्बाकू और शराब की दुकानें खुली हुई मिल जाएँगी. इस सम्बन्ध में चंडीगढ़ के आबकारी आयुक्त श्री एम० एस० बरार का कहना है कि यह दुकानें विद्यालयों के परिसर से काफी दूर हैं. प्रसासन का कुछ भी कहना हो लेकिन यह सारी नशे से सम्बंधित वस्तुएं छात्रों के पहुँच में आसानी से उपलब्ध हैं।

No comments: