लोक राजनीति मंच वैकल्पिक राजनीति खड़ी करने हेतु प्रतिबद्ध

लोक राजनीति मंच की कोशिश है कि आने वाले विधान सभा चुनाव में कुछ ऐसे उम्मीवार हों जो विकल्प प्रस्तुत कर सकें। लोक राजनीति मंच छह ऐसे उम्मीदवारों का समर्थन कर रहा हैं।

ये उम्मीदवार हैं: पिपराइच, गोरखपुर से सत्येन्द्र यादव, बेल्थरा रोड, बलिया से जितेन्द्र त्यागी, वाराणसी कैण्ट से अफलातून देसाई, वाराणसी उत्तरी से अनीता श्रीवास्तव, सफीपुर (सुरक्षित), उन्नाव से सुषमा, सण्डीला, हरदोई से रमदई व मुहोली,सीतापुर से देवेश पटेल।

लोक राजनीति मंच एक वैकल्पिक राजनीति को खड़ा करने हेतु प्रतिबद्ध है, जिसका इस देश में संविधान में पूरा भरोसा हो तथा जो भ्रष्ट-आपराधिक गठजोड़ का मुकाबला भी करने को तैयार हो। निम्न मुद्दों पर हमारी भूमिका हमारी सोच को रेखांकित करती हैः

* राजनीतिक सत्ता का विकेन्द्रीकरण ताकि विकास नियोजन संबंधी निर्णय ग्राम सभा या स्थानीय निकाय के स्तर पर लिए जा सकें।
* निजीकरण, उदारीकरण व वैश्वीकरण वाली आर्थिक नीतियों के वर्तमान स्वरूप का विरोध तथा प्राकृतिक संसाधनों पर कम्पनियों के कब्जे का विरोध
* हरेक धर्म के लिए सद्भाव व साम्प्रदायिक सद्भाव को मजबूत करना
* खाद्य सुरक्षा हेतु सभी धार्मिक स्थलों पर गुरूद्वारों के समान लंगर की व्यवस्था
* मानव निर्मित विभाजन की श्रेणियों के आधार पर मनुष्य-मनुष्य में भेद करने का विरोध
* वैश्विक व क्षेत्रीय निशस्त्रीकरण खासकर व्यापक जनसंहार की क्षमता वाले हथियारों की, रक्षा बजट में कटौती, शांति व मैत्री को बढ़वा, सीमा पार लोगों को आने-जाने की छूट
* जाति प्रथा का उन्मूलन किन्तु जातियों में बराबरी स्थापित होने तक आरक्षण की नीति का समर्थन
* हरेक जन प्रतिनिधि या महत्वपूर्ण निर्णय लेने वाले पदों पर एक महिला व एक पुरूष की व्यवस्था, किन्नरों को पर्याप्त प्रतिनिधित्व
* सैन्य बल विशेषाधिकार अधिनियम, गैर कानूनी गतिविधियां निवारण अधिनियम, छत्तीसगढ़ विशेष जन सुरक्षा अधिनियम, जैसे काले कानूनों की समाप्ति
* आतंकवाद व नक्सलवाद के नाम पर निर्दोष लोगों का उत्पीड़न बंद
* उद्योग व सेवा क्षेत्र की तुलना में कृषि को महत्व दिया जाना, किसानों-मजदूरों को सम्मानजनक आय
* वर्ग विषमता को राजनीतिक निर्णय से खत्म करना
* सिर्फ अमीरों पर कर, इसके लिए एक अमीरी रेखा तय करना
* सार्वजनिक जीवन व प्रशासन के काम में पारदर्शिता व जवाबदेही
* शिक्षा के अधिकार में समान शिक्षा प्रणाली व पड़ोस के विद्यालय की अवधारणा को शामिल किया जाना
* सभी को मुफ्त चिकित्सा की व्यवस्था
* खाद्यान्न, वस्त्र, आवास, स्वास्थ्य व शिक्षा के क्षेत्र में निजीकरण पर रोक
* नाभिकीय उर्जा कार्यक्रम पर रोक, पर्यावरणीय दृष्टि से साफ-सुथरे अक्षय उर्जा स्रोतों को बढ़ावा
* स्वतंत्र फिलीस्तीन राज्य के मुद्दे का समर्थन

- अजीत झा, जे.पी. सिंह, एस.आर. दारापुरी, संदीप पाण्डेय, देवेश पटेल

No comments: