डॉ बिनायक सेन के समर्थन में १० दिन का उपवास

डॉ बिनायक सेन के समर्थन में १० दिन का उपवास

नोट: यदि आप डॉ सेन क समर्थन में १ -१० दिन तक (आपके ऊपर निर्भर है) उपवास रख सकते हैं, तो कृपया कर के यहाँ पर क्लिक्क कीजिये और पंजीकरण करें
http://www.ashaparivar.org/petition/binayaksen/
---------------------------------------------------


क्रूर कानून के विरोध में और डॉ बिनायक सेन, अजय टी.जी और अन्य लोगों कीरिहाई समर्थन में १० दिन का उपवास

१६ - २५ जून २००८


रायपुर, छत्तीसगढ़ में डॉ बिनायक सेन, फ़िल्म निर्माता अजय टी.गी, दोनों ही PUCL के सदस्य हैं, और अन्य लोग जो छत्तीसगढ़ स्पेशल पब्लिक सिक्यूरिटी एक्ट २००५ के तहत और अन्लाव्फुल अकतिवितिस प्रेवेंशन एक्ट (१९६७) - जो २००४ में संशोधित हुआ था - उसके तहत, गिरफ्तार हैं, उनकी रिहाई की मांग करते हुए १० दिन का उपवास आयोजित हो रहा है. यह उपवास १६ - २५ जून २००८ तक आयोजित होगा.

यह क्रूर कानून न केवल सरकार को बिना किसी लोकतांत्रिक करवाई के निर्णय पर पहुचने का अधिकार देते हैं, बल्कि अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार के मायने हुए उसूलों को भी नकारते हैं. एक वरिष्ठ वकील के.गी कन्नाबिरण, जो कि पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबेर्तिएस (PUCL) के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं, उनका कहना है कि छत्तीसगढ़ स्पेशल पब्लिक सिक्यूरिटी एक्ट २००५ और उन्लाव्फुल अक्तिवितिएस् प्रेवेंशन एक्ट दोनों ही लोगों की स्वतंत्रता और लोकतांत्रिक व्यवस्था में अपनी बात रखने के अधिकारों को गैर-कानूनी बना के जुर्म करार देते हैं, और व्यक्ति पर इल्ज़ाम सबूत के आधार पर नही बल्कि किसी संगठन या विचारधारा से जुडाव पर साबित होता है.

PUCL छत्तीसगढ़ के महा-सचिव डॉ बिनायक सेन ने प्रदेश सरकार द्वारा प्रायोजित सलवा जुडूम का खुलासा कर के रख दिया था जो संवैधानिक व्यवस्था से बाहर हिंसा को मान्यता देता है और आदिवासी को आदिवासी के ही विरोध में खड़ा करने पर मजबूर कर देता है.

इस उपवास के जरिये यह सुनाश्चित करने का आह्वान है कि हाशिया पर रह रहे लोगों क मानवाधिकार की संग्रक्षा हो सके और
मानवाधिकार कार्यकर्ता निडर हो कर अपना कार्य कर सके.

यह उपवास २५ जून को समाप्त होगा. २५ जून को ही १९७५ में भारत ने अमेर्जेंसी घोषित की थी. उपवास के समाप्त होने क बाद २५-२६ जून २००८ को रायपुर में क्रूर कानून और
मानवाधिकार पर केंद्रित राष्ट्रीय अधिवेशन का आयोजन होगा.

आप सब से निवेदन है कि इस उपवास में भाग लें. उपवास में भाग लेने के लिए आप जहाँ-से-चाहें और जितने भी दिनों के लिए चाहे, उपवास रख सकते हैं.

इस उपवास के लिए पंजीकरण करने के लिए, यहाँ पर जाएं:
http://www.ashaparivar.org/petition/binayaksen/

राजेंद्र सैल (९८२६८०४५१९),
गौतम बंदोपाध्याय (९८२६१७१३०४),
इलिना सेन (९४२५२०६८७५),
कविता श्रीवास्तव (९३५१५६२९६५),
फैसल खान (९३१३१०६७४५),
संदीप पाण्डेय (ashaashram@yahoo.com)
----------------------------------------

नोट: यदि आप डॉ सेन के समर्थन में १ - १० दिन तक (आपके ऊपर निर्भर है) उपवास रख सकते हैं, तो कृपया कर के यहाँ पर क्लिक्क कीजिये और पंजीकरण करें
http://www.ashaparivar.org/petition/binayaksen/

No comments: