हम होंगें कामयाब

हम होंगें कामयाब


हाल ही में , मुंबई में सम्पन्न हुएतम्बाकू अथवा स्वास्थ्यके चौदहवें अंतर्राष्ट्रीय सम्मलेन में तम्बाकू के ख़िलाफ़ लड़ने की प्रतिज्ञा को दोहराया गयाजब तक एक धुंआ रहित एवं स्वस्थ समाज की स्थापना नहीं हो जाती तब तक हमें अपने अथक प्रयास जारी रखने होंगेंइस सम्मलेन में १३० देशों से आए हुए २००० से अधिक प्रतिनिधियों के बीच, वैश्विक स्तर पर विचार विनिमय हुआसम्मेलन में आए हुए स्वास्थ्य विशेषज्ञ , वैज्ञानिक, शिक्षा शास्त्री एवं तम्बाकू निषेध कार्यकर्ता, सभी एक तम्बाकू रहित समाज के लिए कटिबद्ध थे


सन २००९ के लूथर टेरी पुरुस्कार से सम्मानित डॉक्टर श्रीनाथ रेड्डी के अनुसार, भारत में तम्बाकू का प्रवेश ४०० वर्ष पूर्व, पुर्तगालियों के द्बारा, इसके पश्चिमी तट से हुआ थाऔर कतिपय, मुंबई में आयोजित इस सम्मलेन के द्बारा तम्बाकू के निकास का बिगुल भी इसी स्थान से बजा है


तम्बाकू नियंत्रण सामाजिक विकास और सामाजिक न्याय का विषय है कि केवल स्वास्थ्य कातम्बाकू प्रकोप का सीधा सम्बन्ध अनेक वैश्विक आपदाओं से हैजब सम्पूर्ण विश्व खाद्यान आपूर्ति की विकट समस्या से जूझ रहा है, तब क्या ५३ लाख हेक्टेयर भूमि पर तम्बाकू सरीखे विष का उत्पादन करना उचित है?


जब हमारा पर्यावरण बुरी तरह से दूषित है, तब सारे वातावरण को सिगरेट के धुँए से भर देना कहाँ की समझदारी है?


जब विश्व के सभी देश विकट आर्थिक मंदी के दौर से गुज़र रहे हैं, तब क्या कोई भी देश तम्बाकू जनित जानलेवा व्याधिओं के कारण अपने स्वास्थ्य कार्यक्रमों का आर्थिक भार बढ़ाने की स्थिति में है?


अत: तम्बाकू नियंत्रण आन्दोलन को अन्य जागरूकता अभियानों के साथ मिल कर काम करना होगा


तम्बाकू/सिगरेट सेवन करने वाले प्राय: यह कहते हैं कि उन्हें अपना जीवन अपनी मर्जी से जीने का अधिकार होना चाहिएपरन्तु वे यह भूल जाते हैं कि परोक्ष धूम्रपान द्बारा उन्हें अन्य व्यक्तियों के जीवन और स्वास्थ्य को खतरे में डालने का कोई अधिकार नहीं है, ही उन्हें अपने परिवार को आर्थिक तंगी में डालने का अधिकार है



सम्मलेन में तम्बाकू उपभोग संबन्धी अनेक तथ्य उजागर हुए तथा कई सबक सीखने को मिलेतम्बाकू रहित भविष्य के लिए हम सभी को एकजुट होकर प्रयास करने होंगें जिससे अवैध तम्बाकू व्यापार को रोका जाए; तम्बाकू पदार्थों पर अधिक कर लगाया जाए तथा उनके विज्ञापनों पर पूर्ण रोक लगाई जाए; तम्बाकू उद्दोग द्बारा किसी भी खेल स्पर्धा / सामाजिक कार्यक्रम को प्रायोजित कराया जाए; और निजी-सार्वजनिक संयोजन के द्बारा तम्बाकू निषेध आन्दोलन को और मजबूत किया जाय

प्रत्येक समझदार नागरिक को तम्बाकू रहित समाज की संरचना में अपना योगदान देना होगा ताकी तम्बाकू विष बेल को पनपने से पहले ही उखाड़ फेंका जा सके


यही हमारी, आपकी और सबकी विजय होगी


शोभा शुक्ला

संपादक

सिटिज़न न्यूज़ सर्विस (सी.एन.एस)

No comments: