(तम्बाकू) से आजादी की ओर

(तम्बाकू) से आजादी की ओर
तम्बाकू अथवा स्वास्थ्य ' का चौदहवाँ अंतर्राष्ट्रीय सम्मलेन मार्च को मुंबई केनेशनल स्कूल ऑफ़ परफोर्मिंग आर्ट्समें प्रारंभ हुआ इस दिवसीय सम्मलेन का उदघाटन करते हुए, मुंबई के राज्यपाल, श्री जामीर ने बच्चों को तम्बाकू के जानलेवा खतरों से बचाने का आहवाहन कियाउन्होंने बताया कि दक्षिण पूर्व एशिया में ९०% मुंह के कैंसर तम्बाकू के सेवन के कारण ही होते हैं

भारत
में तम्बाकू प्रकोप की समस्या और भी जटिल है हमारे देश में तम्बाकू का प्रयोग केवल सिगरेट के रूप में ही नहीं वरन गुटखा, पान मसाला, खैनी आदि के रूप में भी प्रचलित है कुछ लोगों की भ्रामक धारणा है कि तम्बाकू उद्दोग हजारों लोगों को रोज़गार देता है, अत: इसको समाप्त नहीं होना चाहिएपरन्तु सच तो यह है कि तम्बाकू उद्दोग में काम करने वाले पुरूष, महिलायें एवं बच्चे, सदैव गरीब ही रहते हैं तथा तम्बाकू जनित अनेक बीमारियों के शिकार भी होते हैंपनपते हैं तो केवल तम्बाकू उद्योगपतितम्बाकू कंपनियाँ नित नए, लुभावने तरीकों से विशेषकर युवा वर्ग को धूम्रपान की ओर आकर्षित करतीं हैं ताकि वो अधिक से अधिक सिगरेट पी कर जल्द से जल्द मृत्यु को प्राप्त हों, या फिर असाध्य रोगों से ग्रसित होंराज्यपाल महोदय ने खेलकूद संस्थाओं से अपील करी की वे तम्बाकू कंपनियों से खेल स्पर्धाएं प्रायोजित कराएँ

अपने
युवा दिनों के तम्बाकू विरोधी अभियानों को याद करते हुए, श्री जामीर ने स्कूल कॉलेज मेंटेम्पेरेंस कमेटीबनाने का सुझाव दियाये संगठन, युवाओं में, केवल धूम्रपान के विरुद्ध प्रचार करें, वरन अन्य विवेकहीन व्यसनों के ख़िलाफ़ भी आवाज़ उठाएंसिगरेट पीना, शराब पीना, अपशब्द बोलना, आवश्यकता से अधिक खाना अथवा सोना--- ये सभी बुराइयाँ हमें शारीरिक और मानसिक रूप से निर्बल बनाती हैंउन्होंने कहा कि युवाओंको यह मत करोके स्थान परइस प्रलोभन से बचोकी शिक्षा देनी चाहिएनिषेध आज्ञा का उल्लंघन करना युवा स्वभाव होता हैअत: उन्हें प्रेम से समझाना होगा

स्वास्थ्य
एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉक्टर अंबुमणी रामादोस ने इस अवसर पर yyyबोलते हुए बताया कि भारत उनगिने चुने देशों में से एक हैं जिन्होनें सर्वप्रथम विमान यात्रा में धूम्रपान पर निषेध लगाया थाउन्होंने कहा कि भारततम्बाकू रहित समाजकी स्थापना के लिए कटिबद्ध हैयहाँ सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान निषेध है एवं तम्बाकू पदार्थों के बेचने पर भी कुछ प्रतिबन्ध हैंपरन्तु उनके अनुसार लोगों को केवल क़ानून के भय से नहीं वरन जनहित में स्वेच्छापूर्वक तम्बाकू सेवन का त्याग करना चाहिए. तम्बाकू उद्दोग की भर्त्सना करते हुए उन्होंने कहा कि एक ओर तो यह उद्दोग युवा वर्ग को आकर्षक विज्ञापनो द्बारा तम्बाकू की और आकर्षित कर रहा है, और दूसरी ओर अन्य तम्बाकू निषेध क़ानून पारित करने में अड़चनें पैदा कर रहा है

यह
अत्यन्त
खेद का विषय है कि ४०% स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का कारण तम्बाकू सेवन होने के बावजूद हमारा युवा वर्ग तेज़ी से धूम्रपान एवं गुटखा/पान मसाला की ओर आकर्षित हो रहा हैअत: साम, दाम, दंड, भेद की नीति अपना कर युवाओं को तम्बाकू एवं शराब के चंगुल से छुडाना ही होगा
डॉक्टर रामदौस ने भारतीय फ़िल्म उद्दोग को भी आड़े हाथों लियाफिल्मों में धूम्रपान
के दृश्य, युवा वर्ग को अत्यधिक प्रभावित करते हैंपिछले दशक तक बनी भारतीय फिल्मों में अधिकतर खलनायक को ही धूम्रपान करते हुए दिखाया जाता थापरन्तु अब तो ७६% फिल्मी हीरो ही सिनेमा के परदे पर सिगरेट पीते हुए दिखाए जाते हैंइसका सीधा प्रभाव बाल मन पर पड़ता हैएक सर्वेक्षण के अनुसार, ५२% बच्चे सिगरेट का पहला कश अपने मनपसंद हीरो के फिल्मी परदे पर धूम्रपान से प्रेरित होकर लेते हैं, १८% माता पिता को देख कर , और १५% अपने साथियों से प्रभावित होकरभारतीय फिल्मों में धूम्रपान दिखाने के विरुद्ध, सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की जा चुकी हैआशा है की परिणाम जन स्वास्थ्य के हित में ही होगा

प्रसिद्द
रचनाकार मार्क ट्वैन ने कहा था कि , ‘भारत ऐसा देश है जिसे सभी देखने की इच्छा रखते हैं।’ इसी भारत देश में, विश्व के १८ वर्ष से कम आयु वाले बच्चे सबसे अधिक संख्या में रहते हैंइनमें से अधिकतर निम्न वर्ग के हैं तथा तम्बाकू खरीदने और बेचने के व्यापार में लगे हैंइन्हें अक्सर शुरू में पान मसाला और गुटखा के मुफ्त पैकेट देकर इस बुरी लत के जाल में फंसाया जाता हैपद्मिमी सोमानी के कुशल निर्देशन में, ‘सलाम बॉम्बे ' नामक संस्था ऐसे ही बच्चों के सुधार के लिए कार्य कर रही है तथा समाज के निर्धन वर्ग के लगभग १८० लाख बच्चों के जीवन को खुशहाल बना चुकी है
इस सम्मलेन में १३० देशों से आए हुए २००० से अधिक भाग ले रहे डेलीगेटों का मुख्य उद्देश्य है तम्बाकू यानी मौत के सौदागरों के चंगुल से हमारे समाज को छुडानातम्बाकू सेवन को बढ़ावा देने वाली बहु राष्ट्रीय कंपनियों के नापाक इरादों को रोकना ही होगासभी समझदार व्यक्तियों को एकजुट होकर ऐसे निर्णय लेने होंगें एवं ऐसे सार्थक कदम उठाने होंगें जिससे हमारे बच्चों के भविष्य को सिगरेट का स्याह धुंआ निगल सके

शोभा शुक्ला
एडिटर
सिटिज़न न्यूज़ सर्विस

No comments: