सामाजिक कार्यकर्ताओं की पुत्री के अपहरण के खिलाफ मौन प्रदर्शन

सामाजिक कार्यकर्ताओं की पुत्री के अपहरण के खिलाफ मौन प्रदर्शन

स्थान: सरदार पटेल प्रतिमा के सामने, हजरतगंज, लखनोऊ

समय: १०-१२ बजे

तिथि: बुधवार १३ फरवरी 2008

सम्पर्क:

जशोधरा दासगुप्ता, ९४१५४१०१५३,

संदीप पाण्डेय, फ: २३४७३६५

नोट: सामाजिक कार्यकर्ता वी के रे और पुष्प रे की पुत्री का अभी तक कोई पता नही चला है. उसके पिता वी के रे ने भदोही में ११ फरवरी से अनिश्चितकालीन उपवास आरंभ किया है.

------------------------
भदोही से सामाजिक कार्यकर्ताओं की २० वर्षीया बेटी का अपहरण

जयशंकर पाण्डेय, आशा परिवार


Centre for Environment and Rural Technology (CERT) ya पर्यावरण एवं ग्रामीण तकनीक के केन्द्र से जुडे हुए सामाजिक कार्यकर्ता वी के रे और पुष्प रे की २० वर्षीया बेटी का ५ फरवरी २००८ को भदोही के संत रवि दस नगर से अपहरण हो गया.

वह ज्ञानपुर, जो कि जिला मुख्यालय है, में स्थित कॉलेज, कशी नरेश राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जा रही थी जहाँ वो बा ई एअर की छात्र है. इस घटना का कोतवाली ज्ञानपुर में सेक्शन ३०३ और ३६६ के तहत ५ फरवरी २००८ की शाम को केस रजिस्टर हो गया है.

वी के रे और पुष्प रे दोनो हाल ही में एक कालीन बुनकर की बेटी के यौनिक शोषण के मुद्दे को उठाने में कारगर रही थे. इस कालीन बुनकर की बेटी का यौन शोषण वह के कालीन निर्माता घुलम रसूल पिछले कई सालों से करता आ रह था. इस कालीन बुनकर की बेटी के घुलम रसूल से २.५ साल का बच्चा भी है. वर्त्तमान में ये लड़की दुबारा गर्भवती है. घुलम रसूल इस लड़की का तबसे यौन शोषण करता आ रह था जब ये बच्ची मात्र १३-१४ साल की थी. जब इस कालीन बुनकर की लड़की ने पहले बच्चे को जनम दिया, तो घुलम रसूल ने रहने के लिए जगह इसको दे दी थी. परन्तु जब घुलम रसूल के लड़को को पता चला, तब उन्होने इस लड़की को घर से बाहर निकल दिया. अब ये कालीन बुनकर की लड़की एक अस्थायी बांस के झोपद में रहती है. उसकी इच्छा है कि घुलम रसूल उससे शादी करे. जब घुलम रसूल ने मना कर दिया, तो इस लड़की ने अधिकारियों से शिक़ायत दर्ज कर दी. एक फिर भी दर्ज हो गयी कि घुलम रसूल ने एक नाबालिग़ लड़की का बलात्कार किया.

वी के रे और पुष्प रे दोनो इस कालीन बुनकर की लड़की का सहयोग कर रहे थे कि उसको अधिकार और न्याय मिले. ७ फरवरी २००८ को इस लड़की के घर के बाहर और घुलम रसूल के घर के बाहर अन्य सामाजिक संगठनों के समर्थन से एक धरना प्रदर्शन की घोषणा भी की गयी थी. इस धरने से दो दिन पहले परन्तु वी के रे और पुष्प रे की ही बेटी का अपहरण हो गया.

ऐसा अनुमान है और लोगों का मानना है कि इस अपहरण के लिए घुलम रसूल ही जिम्मेदार है.

रे परिवार नि:संदेह बहुत परेशान है, खासकर कि अपने बिटिया के साथ दुर्व्यवहार की सम्भावना सोच कर.

इस संकट की घडी में हम रे परिवार के साथ है और आशा करतें है कि उनकी बिटिया शीघ्र ही सुरक्षित वापस लॉट आएगी.

हम लोग प्रशासन और पुलिस के लगातार सम्पर्क में है. पुलिस/ प्रशासन भी इनकी लड़की को खोजने के लिए हर संभव प्रयास कर रह है.


जयशंकर पाण्डेय

आशा परिवार

चंदौली (वर्त्तमान में भदोही में स्थित हैं)

मोबाइल: ९८३९७१६२४८

1 comment:

Islamul Haque Khan said...

Really this is a shameful act we should condemn it.