प्रभावकारी चित्रमय चेतावनियाँ जीवन रक्षा कर सकती हैं !!

प्रभावकारी चित्रमय चेतावनियाँ जीवन रक्षा कर सकती हैं !!

फोटो वाली स्वास्थ्य चेतावनियाँ जन मानस के बीच तम्बाकू के कुप्रभावों का प्रचार करने का एक बहुत ही सशक्त माध्यम हैं। ये तम्बाकू पदार्थों से जुड़े हुए भड़कीले आकर्षण की ओर से हमारा ध्यान हटा कर एक ‘तम्बाकू रहित’ परिवेश की संरचना करने में सहायक होती हैं.

प्रभावी फोटो चेतावनी लेबल तम्बाकू उपभोग के खतरों के बारे में, केवल लिखित चेतावनी की अपेक्षा अधिक असरदार जानकारी देते हैं. भारत जैसे देश में, जहाँ करीब एक तिहाई जनता अनपढ़ है, चित्र चेतावनियाँ स्वास्थ्य संदेशों का संचार भली-भाँती करके तम्बाकू उपभोक्ता को तम्बाकू छोड़ने के लिए प्रोत्साहित करती हैं.

जिन देशों में ज़ोरदार एवं असरदार फोटो चेतावनियाँ लागू करी गयी हैं, वहाँ तम्बाकू उपभोग में कमी आयी है. तम्बाकू पैकटों पर इन चेतावनियों का जितना बड़ा आकार होगा, उतनी ही अधिक संभावना इस बात की होगी कि लोग तम्बाकू का बहिष्कार करें. प्रभावकारी फोटो चेतावनियाँ, तम्बाकू प्रयोग से होने वाली बीमारियों और मृत्यु से जुड़े हुए आघात, यंत्रणा एवं पीड़ा का सजीव चित्रण करती हैं.

फोटो स्वास्थ्य चेतावनी के पक्ष में अंतर्राष्ट्रीय प्रमाण

* ऑस्ट्रेलिया और कनाडा से मिले हुए प्रमाणों के अनुसार, चित्र चेतावनियाँ धूम्रपान के स्वास्थ्य खतरों के बारे में जागरूकता बढ़ाती हैं एवं सिगरेट उपभोग को कम करती हैं.

* ब्राजील में ५४% सिगरेट पीने वालों ने, इन चेतावनियों के कारण, धूम्रपान के स्वास्थ्य परिणामों के बारे में अपनी राय बदल दी, तथा ६७% सिगरेट का सेवन करने वालों ने धूम्रपान छोड़ने की इच्छा व्यक्त की.

* यूरोपियन संघ के ५०% सिगरेट पीने वालों ने कहा कि फोटो चेतावनियों ने उन्हें अन्य लोगों के आस-पास कम धूम्रपान करने को विवश किया; ३१% भूतपूर्व धूम्रपानियों के अनुसार, फोटो चेतावनी से प्रभावित होकर ही उन्होंने सिगरेट का बहिष्कार किया.

* जिन देशों में फोटो चेतावनी कानून लागू है, वहाँ के परिणाम इस बात की ओर इंगित करते हैं कि औसत रूप से ये चेतावनियाँ तम्बाकू उपयोग की समाप्ति एवं रोकथाम को बढ़ावा देने में, अन्य साधनों के मुकाबले, ६०% अधिक प्रभावकारी हैं

------------

इसको इंडियन सोसाइटी अगेंस्ट स्मोकिंग, आशा परिवार द्वारा प्रकाशित एवं वितरित किया गया है

Credits: We acknowledge the financial contribution received from Bloomberg Initiative to Reduce Tobacco use and technical contribution received from HRIDAY on behalf of Advocacy Forum for Tobacco Control - AFTC (Delhi)

No comments: