ज्ञापन: विधान सभा भवन के बाहरी हिस्से पर पुताई का विरोध

सेवा में: महामहिम राज्यपाल,उप्र.
दिनांक: १५ मई २००९

ज्ञापन: विधान सभा भवन के बाहरी हिस्से पर पुता का विरोध

महामहिम महोदय,

हम
लखनऊ के नागरिक, आपके समक्ष वर्तमान में विधान सभा के बाहरी हिस्से पर जो पुताई का कार्य चल रहा हैउस पर, अपना विरोध दर्ज कराना चाहते हैं। इस छेड़छाड़ की वजह से इस ऐतिहासिक भवन के सौंदर्य के भंग होनेका खतरा है।

राज्य
सरकार पहले से ही नई-पुरानी इमारतों को तुड़वा कर, हरे पेड़ों को कटवा कर मनमाने ढंग से कई स्मारकोंका निर्माण करा रही है जो विधान सभा द्वारा खुद ही डॉ बी.आर.अम्बेडकर सामाजिक परिवर्तन स्थल अधिनियम, २००७, को वापस लिए जाने के बाद से गैर-कानूनी हो गया है। विधान सभा की पुताई भी इसी बड़ी योजना काहिस्सा है जिसके तहत बिना किसी विशेष प्रयोजन के लखनऊ शहर की तस्वीर बदली जा रही है।

हमारा
आपसे आग्रह है कि हस्तक्षेप कर लखनऊ की सांस्कृतिक विरासत का संरक्षण करें एवं प्रदेश सरकार केसीमित संसाधनों के दुरूपयोग को रोकें।

धन्यवाद
,

भवदीय
,

नवीन तिवारी
सामाजिक कार्यकर्ता

न्यायमूर्ति कमलेशवर नाथ
सेवा निवृत

ईशवर चंद्र द्विवेदी
सेवा निवृत आई.पी.एस

एस.एन.शुक्ल
सेवा निवृत - आई..एस

एस .आर.दारापुरी
सेवा निवृत आई.पी.एस

संदीप पाण्डेय
मग्सय्सय पुरुस्कार (२००२) प्राप्त सामाजिक कार्यकर्ता

No comments: