भुमाफियाओं द्वारा RTI कार्यकर्ता रोबी शर्मा के ऊपर फर्जी मुकदमा

भुमाफियाओं द्वारा RTI कार्यकर्ता रोबी शर्मा के ऊपर फर्जी मुकदमा
महेश कुमार, सूचना का अधिकार अभियान, कानपुर
-------------------

कानपुर में भुमाफियाओं और कानपुर विकास प्राधिकरण (के.डी.ए) के अधिकारियों ने RTI कार्यकर्ता रोबी शर्मा पर पनकी थाने में फर्जी मुकदमा दर्ज कराया.


रोबी शर्मा पिछले २ वर्षों से सूचना अधिकार अभियान कानपूर से जुड़कर सूचना अधिकार के माध्यम से कानपुर में भ्रष्टाचार से जुड़े मुद्दों को उजागर करने में लगे हुए हैं.

रोबी शर्मा जी ने कानपुर में मल्टी-स्टोरी बिल्डिंगों के बावत
के.डी.ए और फायर डिपार्टमेन्ट से सूचना के अधिकार के तहत यह जानकारी चाही कि कानपुर में बने मल्टीस्टोरी बिल्डिंगों में से कितने भवन फायर डिपार्टमेन्ट के मानकों के अनुसार बने हुए हैं, और कितने भवनों ने फायर डिपार्टमेन्ट से एन.ओ.सी लिया हुआ है.

के.डी.ए से उन्होंने यह भी सूचना मांगी कि रिहायशी इलाकों में गेस्ट हॉउस और व्यापारिक गतिविधियाँ किस आदेश के तहत चल रही हैं.

पनकी छेत्र में रामलीला पार्क को किस आदेश के तहत प्राइवेट विद्यालय के लिए आवंटन किया गया है.
के.डी.ए और भुमिमाफियाओं के गठबंधन के कारण कानपुर में कई जगहों पर भुमफियाओं ने जमीन कब्जा किया हुआ है.

उनकी कई सारी सूचनाएँ
के.डी.ए ने अब तक उपलब्ध नही करायी हैं जिसका मुकदमा राज्य सूचना आयोग में चल रहा है. कानपुर में स्थित दो बड़े मल्टीप्लेक्स - रेव थ्री और रेव फाइव भवन भी पिछले कई वर्षों से बिना फायर विभाग की एन.ओ.सी से चल रहे हैं. यह भवन एक प्रमुख दैनिक अखबार के मालिक के हैं.

इस कड़ी में ८/५/२००८ को
के.डी.ए के मुख्य नगर नियाज़ महावीर सिंह ने के.डी.ए सचिव हेमंत कुमार सिंह के कार्यालय में अपील सुनवाई के दौरान रोबी शर्मा जी को अपशब्द कहने के साथ ही धमकी दी कि ज्यादा सूचनाएँ न मांगे नही तो गंभीर परिणाम होंगे. पूर्व में भी एक कतिपय नेता राम जी त्रिपाठी द्वारा भी एक अन्य प्रकरण में धमकाया जा चुका है. इसी क्रम में ९/५/२००८ को पनकी थाने में शर्मा जी के ऊपर नाजायज़ दबाव बनाने के उद्दयेश से उनके ऊपर एक व्यक्ति जिसको श्री शर्मा जी जानते तक नही है, शर्मा जी के विरुद्ध झूठा मनगढ़ंत मुकदमा कायम कर दबाव बनाने का प्रयास किया गया है ताकि रोबी शर्मा जी डर कर सूचना न मांगे.

यह जानकारी चौकी इंचार्ज पनकी श्री आर.के.पाण्डेय जी ने शर्मा जी को बुलवाकर बताई (पाण्डेय जी का मोबाइल नो. ९४१५१७४९७० है). दिनांक १२/५/२००८ को सूचना अधिकार अभियान कानपुर के साथी एस.एस.पी कानपुर से मिलकर इस प्रकरण के बावत जानकारी दी साथ ही प्रेस क्लब में प्रेस वार्ता कर के मीडिया को प्रसाशनिक अधिकारियों और भुमाफियों के गठजाड़े का खुलासा करते हुए व रोबी शर्मा पर बनाये जा रहे दबाव की जानकारी दी.

प्रेस वार्ता के बाद १२/५/२००८ की शाम आठ बजे के करीब अभियान के साथी कुलदीप सक्सेना जी को प्रमुख दैनिक अखबार के कार्यालय में उनके किसी परिचित के माध्यम से बुलाया गया. वहाँ पर दैनिक अखबार के ब्यूरो प्रमुख संजीव मिश्रा द्वारा कुलदीप सक्सेना को यह धमकी दी गई कि रोबी शर्मा को रेव के मामले से बाहर हटने को कहें वरना इसके गंभीर परिणाम होंगे. साथ ही यह भी कहा कि हमारे अखबार के मालिकों के पीछे न पड़े वरना उनको जेल के अन्दर सड़ा देंगे.

१३/५/२००८ को कानपुर जिला अधिकारी और एस.एस.पी से मिलकर एक बार फिर इस प्रकरण के सन्दर्भ में उन्हें जानकारी से अवगत कराया गया.

उन्होंने आश्वासन दिया कि इस सन्दर्भ में कार्यवाही करेंगे.

रोबी शर्मा जी का कहना है कि भुमाफियाओं और
के.डी.ए के भ्रष्ट अधिकारियों के ख़िलाफ़ उनका यह संघर्ष अन्तिम लड़ाई तक जारी रहेगा. हो सकता है कि अखबार के मालिक और भुमाफियाओं के द्वारा आने वाले समय में मेरे ऊपर किसी और प्रकार से दबाव बनाने के साथ-साथ हत्या की भी साजिश की जा सकती है.

अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करें:

महेश

सूचना का अधिकार अभियान, कानपुर

(१५/२४५ सिविल लाइन्स, कानपुर - २०८००१)
मोबाइल: +91 98385 46900
ईमेल: maheshballia@yahoo.com


No comments: